देश

लॉकडाउन पर बैठक, घर का बना मास्क पहन बैठे मोदी

नई दिल्ली
देश में 14 अप्रैल के बाद भी लॉकडाउन रहेगा या नहीं, इसका पता थोड़ी देर में चल सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना से हालात की समीक्षा के लिए राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों से बातचीत शुरू कर दी है। वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग से चल रही इस मीटिंग में पीएम मोदी घर का बना मास्क पहनकर बैठे हैं। फिलहाल बैठक जारी।

बढ़ सकता है लॉकडाउन!
जिस तरह से देश में कोरोना वायरस के पिछले कुछ दिन में मामले बढ़े हैं, उसको देखते हुए लॉकडाउन जारी रहने की संभावना है। पिछले 24 घंटों में 1000 से ज्‍यादा नए मामले सामने आए हैं, 40 लोगों की मौत हुई है। देश में टोटल मामलों का आंकड़ा साढ़े सात हजार पार करने वाला है। कई राज्‍य सरकारें भी लॉकडाउन बढ़ाने की तैयारी कर चुकी हैं। पंजाब और ओडिशा ने पहले ही लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। केरल और महाराष्‍ट्र भी कुछ हिस्‍सों में ऐसा कर सकते हैं।

एकसाथ लॉकडाउन हटाना संभव नहीं
पीएम मोदी ने बुधवार को सर्वदलीय बैठक में कहा था कि केंद्र सरकार की प्राथमिकता प्रत्येक जीवन की सुरक्षा है। उन्होंने कई जिलों के जिलाधिकारियों से बात की है और सभी ने एकमत होकर लॉकडाउन की समय सीमा को आगे बढ़ाने पर सहमति जताई है। पीएम ने यह भी कहा था कि पूरे देश में एक साथ लॉकडाउन हटाना संभव नहीं है।

मीटिंग से पहले चिदंबरम की सलाह
इस बैठक से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शनिवार को कहा कि सभी राज्यों के मुख्यमंत्री पीएम मोदी से यह मांग करें कि गरीब परिवारों तक नकद राशि पहुंचाई जाए। उन्होंने ट्वीट किया, "पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी को प्रधानमंत्री से कहना चाहिए कि गरीबों की आजीविका उनके जीवन जितनी ही महत्वपूर्ण है।" पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, "मुख्यमंत्रियों को यह मांग करनी चाहिए कि हर गरीब परिवार को नकदी प्रदान की जाए। गरीबों को पैसा देना उनकी सर्वसम्मत मांग होनी चाहिए।"

मोदी पहले भी कर चुके CMs से बात
2 अप्रैल को भी पीएम मोदी ने सभी मुख्‍यमंत्रियों से चर्चा की थी। तब उन्‍होंने कहा था कि लॉकडाउन समाप्त होने के बाद आबादी के फिर से घर से बाहर निकलने को ध्यान में रखते हुए राज्यों और केंद्र को एक रणनीति तैयार करनी चाहिए। कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में समन्वित प्रयासों की जरूरत को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था, 'जिला स्तर पर इस उद्देश्य के लिये आपदा प्रबंधन समूह बनाया जाना चाहिए। इसके साथ ही जिला निगरानी अधिकारियों को नियुक्त किये जाने की जरूरत है।'

दुनिया में एक लाख से ज्‍यादा मौतें
दुनिया भर में कोरोना वायरस महामारी से मरने वाले लोगों की संख्या शुक्रवार को एक लाख के आंकड़े को पार कर गई। इटली में 18,849 लोगों की मौत हुई हैं। यह विश्व भर में किसी देश में सबसे अधिक मृतक संख्या है, जबकि उसके बाद अमेरिका में 17,925 लोगों की मौत हुई है। वहीं, स्पेन में 15,843 लोगों की मौत हुई है। दुनिया भर में इस वायरस से अब तक 16 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या शुक्रवार को 1,00,661 तक पहुंच गई। इनमें से करीब 70 प्रतिशत लोगों की मौत यूरोप में हुई हैं। यूरोप में अब तक 70,245 लोगों की मौत हुई है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close