राज्य

कोरोना से जंग: घर-घर में खोजे जा रहे सर्दी और खांसी के मरीज, स्वास्थ्य विभाग की 5 टीमें कर रहीं सर्वे

पटना                                                                               
कोरोना के संक्रमित अब घर में छिपकर नहीं बैठ पाएंगे। प्रशासन ने ऐसी रणनीति बनाई है जिससे कोई भी संदिग्ध बच ही नहीं पाएगा। शहर के हर घर में सर्दी, खांसी और बुखार के मरीज खोजे जा रहे हैं। इसके लिए पांच टीमें बनाई गई हैं और हर टीम में पांच पांच सदस्य हैं। ये शहर के सभी वार्डों में घूमकर एक-एक व्यक्ति के बारे में जानकारी ले रहे हैं। सर्वे का जिम्मा आंगनबाड़ी कर्मी, स्वास्थ्यकर्मियों व अन्य कर्मियों को सौंपा गया है। सर्वे में एक ऐसा डाटा तैयार किया जा रहा है जो पटना में रहने वालों की पूरी जानकारी देगा। सर्वे के दौरान मनमानी करने वालों पर कार्रवाई के लिए पुलिस को भी साथ में लगाया गया है।  शहरी क्षेत्र में दो दिनों में 4,669 घरों का सर्वे किया गया है, जिसमें 23 घरों में सर्दी,खांसी, बुखार की शिकायत मिली है। इसकी सूचना संबंधित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को दे दी गई है। अब डॉक्टरों की टीम जांच कर रिपोर्ट सिविल सर्जन को देगी।

इस तरह तैयार हो रहा डाटा
– टीम हर घर में पहले परिवार के मुखिया के बारे में पूछ रही है। सभी सदस्यों के नाम, उम्र, मोबाइल नंबर और आय के स्रोत की जानकारी भी दर्ज कर रही है।
– टीम हर सदस्य की तबीयत के बारे में पूछ रही है। किसी को सर्दी, खांसी, बुखार तो नहीं, सांस लेने में तकलीफ की भी पड़ताल कर रही है।  
– परिवार का कोई भी सदस्य एक माह में विदेश यात्रा से लौटा है तो उसका भी अलग से पूरा ब्योरा तैयार किया जा रहा है। 

ताकि छुप न पाएं संक्रमित
प्रशासन को आशंका है कि विदेश और गैर प्रांतों से आए लोग घर में हैं। वह होम क्वारंटाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। हर घर में जाकर जांच करने का उद्देश्य ही यही है कि कोई भी संक्रमित घर में छिपकर न रह पाए। स्वास्थ्य विभाग की टीम हर घर का दरवाजा खटखटा रही है और परिवार के बारे में जानकारी हासिल कर अभिलेख में दर्ज कर रही है। पटना के घरों में सैनिटाइजेशन करने वाली टीम भी घर में रहने वाले हर एक व्यक्ति पर नजर रख रही है। शहर के बाद यह सर्वे का काम ग्रामीण इलाकों में भी होगा।

चार और संक्रमितों ने दी कोरोना को मात 
एनएमसीएच में शनिवार को भी चार संक्रमितों ने कोरोना को मात दे दी। इन चारों की लगातार दो बार रिपोर्ट निगेटिव आई है। इसमें एक मुंगेर के अस्पताल का कर्मी है जो सैफ के इलाज के दौरान संक्रमित हुआ था, दूसरा सीवान का एक युवक है। दुबई से संक्रमित होकर गया आई एक महिला और अबूधाबी से नालंदा आए युवक ने भी कोरोना को मात दे दी है। रविवार को चारों को घर भेजा जा सकता है। सीवान के एक और युवक की पहली रिपोर्ट निगेटिव आई है। 

शहरी क्षेत्र में सर्वे का काम चल रहा है। अब ग्रामीण क्षेत्र में भी इसे चलाया जाएगा। कोई भी संदिग्ध घर में खुद से दवा लेकर छिपकर न रह पाए, इसलिए यह सर्वे किया जा रहा है। इससे बड़ा डाटा भी तैयार होगा। 
-डॉ राज किशोर चौधरी, सिविल सर्जन 

Related Articles

Back to top button
Close
Close