बिज़नेस

इन 3 तरीकों से जानें जनधन खाते का बैंलेंस

नई दिल्ली 
कोरोना वायरस महामारी की वजह से घोषित देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान गरीबों को अपना घर चलाने में आर्थिक परेशानी नहीं हो, इसके लिए केंद्र सरकार ने पहले राहत पैकेज में महिलाओं के जनधन खातों में 500-500 रुपये डालने की घोषणा की थी। सरकार ने 20 करोड़ महिलाओं के जनधन खातों में 500 की पहली किस्त डाल दी है। देश में कोरोना वायरस महामारी फैलने की वजह से 21 दिन की बंदी लागू है। वित्त मंत्री ने कहा था कि 20.5 करोड़ महिला खाताधारकों को तीन महीने तक प्रत्येक महीने 500 रुपये दिए जाएंगे। इससे संकट के इस समय उन्हें अपने घर को चलाने में मदद मिलेगी। अब बड़ा सवाल यह है कि लॉकडाउन के समय में अधिकतर महिलाओं का बैंक जाना संभव नहीं हो सकता है, ऐसे में उन्हें कैसे पता चलेगा कि उनके खाते में 500 रुपये की रकम आ गई है। आइए हम बताते हैं कि आप कैसे पता करेंगे कि आपके जनधन खाते में 500 रुपये आया है या नहीं। 

1. एक मिस्ड कॉल से पता करें बैलेंस 
भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने खाताधारकों के लिए यह सुविधा शुरू की है। कोई भी जनधन खाताधारक 18004253800 या फिर 1800112211 पर कॉल करके अपना बैलेंस जान सकते हैं। खाताधारक को अपने रजिस्टर्ड फोन नंबर से इन नंबरों पर कॉल करना होगा। इसके अलावा, खाताधारक अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 9223766666 पर कॉल करके भी यह जानकारी ले सकते हैं। अलग-अलग बैंकों के लिए यह नंबर अलग-अलग हो सकता है। इसलिए आप अपने पासबुक पर अकाउंट में पड़ी राशि पता लगाने का नंबर देख सकते हैं। 

2. ऑनलाइन PFMS portal के जरिए 
सरकार द्वारा प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (DBT) भुगतान के लिए शुरू किए गए PFMS Portal पर भी इसके बारे में पता लगा सकते हैं। इसके लिए लाभार्थी इस वेबसाइट https://pfms.nic.in/NewDefaultHome.aspx# पर क्लिक करें। यहां लाभार्थी अपना लाभ चेक करने के लिए सबसे पहले Know your Payment पर क्लिक करें। यहां जाने के बाद लाभार्थी के सामने एक नया पेज ओपन होगा, जिसमें उसे सबसे पहले अपने बैंक का नाम लिखें और इसके बाद अकाउंट नंबर दो बार डालें और नीचे कैप्चा कोड डालकर सर्च करें। जिसके बाद लाभार्थी की जानकारी यहां शो हो जाएगी 

3. सीधा बैंक जाकर 
अगर बैंक आपके घर के निकट है तो आप सीधे बैंक में जाकर यह पता लगा सकते हैं कि आपके खाते में रकम आई है या नहीं। 

Related Articles

Back to top button
Close
Close