राजनीती

कोरोना मशीन में केजरीवाल, यह तो प्रचार की हद है

नई दिल्‍ली
दिल्‍ली सरकार ने रेड और ऑरेंज जोन वाले इलाकों में स्‍पेशल सैनिटाइजेशन कैम्‍पेन शुरू किया है। दिल्ली जल बोर्ड (DJB) के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने राजेंद्र नगर विधानसभा से इस अभियान की शुरुआत की। इसके बाद कोंडली, जंगपुरा और पटपड़गंज के इलाकों को भी सैनिटाइज किया गया। पटपड़गंज में डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया सैनिटाइजेशन ड्राइव के दौरान मौजूद रहे। दिल्‍ली सरकार को पाई इंडस्‍ट्रीज ने 10 हाईटेक मशीनें दी हैं।

मशीनों पर लगी है केजरीवाल की फोटो
एक मशीन घंटे भर के भीतर 20 हजार स्‍क्‍वायर मीटर के इलाके को सैनिटाइज कर सकती है। इसके अलावा DJB की 50 मशीनें भी सैनिटाइजेशन में लगा दी जाएंगी। यानी कुल 60 मशीनों से दिल्‍ली के रेड और ऑरेंज जोन्‍स का सैनिटाइजेशन होगा। मगर इन मशीनों पर सीएम अरविंद केजरीवाल की फोटो लगी है। सोशल मीडिया पर जब तस्‍वीरें आईं तो कई लोग बिफर गए। कुछ ने कहा कि ऐसे बुरे दौर में भी आम आदमी पार्टी (AAP) को पब्लिसिटी सूझ रही है।

कोरोना: दिल्ली की सड़कों पर जापानी मशीनें
कोरोना: दिल्ली की सड़कों पर जापानी मशीनेंकोरोना के खिलाफ जंग में राजधानी दिल्ली में बड़ स्तर पर सैनेटाइजेशन का काम किया जा रहा है। दिल्ली सरकार ने इसके लिए बड़े स्तर पर डिसइन्फेक्शन ड्राइव की शुरुआत की है। खास बात ये है कि इसके लिए कुछ जापानी मशीनें राजधानी की सड़कों पर उतारी गई हैं।

'क्‍या पोस्‍टर बिना नहीं चलती गाड़ी?'
सचिन पवार स्‍क्रीन नेम वाले यूजर ने लिखा, 'अपना पोस्‍टर क्‍यों लगा रखा है गाड़ी के आगे? अगर पब्लिसिटी ही करनी है तो खुद ही चला लेते।" केतन ने पूछा कि "अपनी फोटो क्या कोरोना को डराने के लिए लगाई है?" अभिषेक ने कहा, "सर आप उन मशीनों पर आपके पोस्‍टर्स को कैसे जस्टिफाई कर सकते हैं? आप हमारे लीडर हैं मगर विज्ञापनों के जरिए लीडरशिप नहीं दिखाई जाती।" मोनू ने तंज कसते हुए पूछा, "बिना पोस्टर गाड़ी नहीं चलती होगी मालिक?"

'इतना खर्चा पब्लिसिटी पर!'
जेएम मीणा ने AAP के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से पोस्‍ट वीडियो के जवाब में लिखा, इन मशीनों पर भी CM साहब के पोस्टर? आम आदमी (आप वाला) पब्लिसिटी का कोई मौका नहीं छोड़ता, TV पर हर 10-15 मिनट में CM साहब का एड, इतना खर्चा पब्लिसिटी पर? सुना है दिल्ली में PPE खरीदने को पैसे नहीं हैं?" डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया की तस्‍वीरों पर विजय ने लिखा, "फोटो पब्लिसिटी है, और कुछ नहीं।" बाला ने कहा, "इसमें भी विज्ञापन। सर जी हम आप को जानते हैं। प्‍लीज काम करो, ना कि विज्ञापन। जब आप को लीडर बनकर दिखाना चाहिए तब आप कभी लीडर नहीं बन पाएंगे।"

अमिय ने कहा, "मुझे लगता है इन गंभीर हालातों में फोटोशूट की जरूरत नहीं है। अगर आप सच में अपना काम करेंगे तो लोग उसे जरूर पहचानेंगे। दिल्‍ली को और सैनिटाइजेशन की जरूरत है क्‍योंकि ये Covid-19 का केंद्र बनता जा रहा है।"

बड़ी-छोटी हो सकती हैं मशीनें
दिल्‍ली में इस्‍तेमाल हो रहीं ये मशीनें खास हैं। इन्‍हें केमिकल स्प्रे के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है। जब इनके पंख खुलते हैं, तो यह बड़ी हो जाती हैं। पंख बंद होते हैं, तो यह छोटी हो जाती हैं। इसलिए यह चौड़ी गलियां के साथ तंग गलियों में भी आसानी से जा सकती हैं। दिल्ली सरकार की सबसे पहली प्राथमिकता रेड जोन है क्योंकि यह वे इलाके हैं, जिन्हें दिल्ली सरकार ने कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। अभी इन मशीनों का पायलट प्रोजेक्ट के तहत प्रयोग किया गया है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close