छत्तीसगढ़रायपुर

लॉकडाउन में पैसे कमाने का नया पैंतर, एंबुलेंस के जरिए किया कुछ ऐसा, पुलिस भी रह गई दंग

धमतरी
कोरोना (COVID-19) से जंग के बीच देश की बड़ी आबादी लॉकडाउन (Lock down) को सफल करने के लिए सरकार का पूरा सहयोग कर रही है. तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी है जो खुद खतरा उठा रहे हैं और दूसरो को भी खतरे में डाल रहे हैं. हद तो तब हो गई जब दो लोगो ने एंबुलेंस (Ambulace) में सवारी बुकिंग शुरू कर दी. धमतरी में कोतवाली पुलिस ने दो एंबुलेंस को पैसेंजर ढोते हुए पकड़ लिया।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक दोनो एंबुलेंस सवारियों को धमतरी से राजनांदगांव छोड़ने जा रहे थे. इसके लिए बकायदा बुकिंग ले रखी थी. पुलिस ने जब इन्हें पकड़ा तो दोनों चालक बचने के लिए गाड़ी में मरीज होने का बहाना बनाने लगे. लेकिन जब पुलिस ने थोड़ी सख्ती दिखाई और कागजात मांगे तब सारी पोल पट्टी खुल गई. चालको ने खुद सारी हकीकत बताई और खुलासा हुआ कि एंबुलेंस की आड़ में लॉकडाउन को गच्चा देकर पैसे कमाने का धंधा चल रहा था.
फायदा उठाने की कोशिश

एंबुलेंस आपात सेवा के लिए होता है. इसलिए चाहे कितनी भी ट्रैफिक हो, कितना भी वीआईपी मूवमेंट हो, चाहे कर्फ्यू ही क्यों न लगा हो, एंबुलेंस को रोकना और जांच करना तो दूर उल्टे पुलिस और आम लोग तक इसके लिए रास्ता छोड़ देते हैं. इसी का फायदा उठा कर लोग पैसे कमाने की फिराक में थे, लेकिन पकड़े गए. कोतवाली पुलिस ने दोनो एंबुलेंस को जब्त कर लिया है और चालक विकास मानिकपुरी और वसीमुद्दीन कुछावा को गिरफ्तार कर लिया है. दोनो ही आरोपी धमतरी के रहने वाले हैं और धमतरी के ही दो निजी एंबुलेंस के चालक हैं. इन्होंने न सिर्फ पूरे सिस्टम को धोखा देने की कोशिश की बल्कि अपने मालिको को भी अंदेरे में रखा

कोतवाली पुलिस ने इस मामले में वसीमुद्दीन और विकास के खिलाफ मुकदमा कायम किया है. दोनों को न्यायिक हिरासत में लेकर जेल भेज दिया गया है. धमतरी एएसपी मनीषा ठाकुर रावटे ने कहा कि ये लॉकडाउन का गंभीर उल्लंघन है. इसलिए दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया है. आगे इस तरह की शिकायत न आए, इस पर ध्यान दिया जाएगा.

Related Articles

Back to top button
Close
Close