छत्तीसगढ़रायपुर

कोविड-19 के संक्रमण से बचाने कबाड़ के जुगाड़ से बनाया ऑटोमेटिक सैनेटाइजर टनल

दंतेवाड़ा
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में संचालित एनएमडीसी में कर्मचारियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए कबाड़ से जुगाड़ बनाया गया है. एनएमडीसी स्टाफ ने कबाड़ हो चुकी वस्तुओं का इस्तेमाल कर एक सैनेटाइजर टनल बनाया है. ये ऑटोमेटिक टनल किसी व्यक्ति के प्रवेश करते ही सैनेटाइजर स्प्रे करने लगता है. इससे कंपनी में प्रवेश करने व वहां से निकलने वाला प्रत्येक व्यक्ति सैनेटाइज होकर ही अंदर या बाहर जाता है.

हम सुरक्षित तो परिवार सुरक्षित सोच के तहत कर्मचारियों ने ऑटोमेटिक सैनेटाइजर टनल बनाया है. रोजाना एक हजार से ज्यादा लोग इस टनल से गुजरते हैं. किरंदुल एनएमडीसी की लौह अयस्क खदान में अब कर्मचारियों को प्रवेश से पहले कीटाणु शोधन सुरंग से होकर ही गुजरना पड़ता है. ये टनल एनएमडीसी के मुख्यद्वार के पास चेकपोस्ट पर ही लगाया गया है.

कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए कर्मचारियों ने कबाड़ से जुगाड़ बनाते हुए सैनीटाइजिंग टनल बना दिया है. अब कर्मचारी लौह अयस्क उत्पादन के लिए माइनिंग में जाने से पहले चेक पोस्ट पर बने सुरंग से गुजर कर बस में बैठते हैं. वापसी में भी ये इस टनल से ही होकर बाहर निकलते हैं. टनल में सेंशल लगा है. ऐसे में जैसे ही कोई कोई व्यक्ति सुरंग में प्रवेश करेगा वैसे ही यह मशीन चालू हो जाएगी. इसके 15 सेकंड के बाद अपने आप ही बंद भी हो जाएगी. प्रत्येक व्यक्ति बिना रुके बेहद कम समय में इस टनल से होकर गुजर रहा है. इससे एनएमडीसी प्रबंधन ने भी राहत की सांस ली है.

Related Articles

Back to top button
Close
Close