देश

क्या रेलवे के पत्र से बांद्रा स्टेशन पर उमड़ा मजदूरों का जनसैलाब? महाराष्ट्र के मंत्री का दावा

मुंबई

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण ने मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर मजदूरों की भीड़ एकत्र होने की घटना को लेकर बुधवार को कहा कि रेल विभाग के एक पत्र के कारण असंमजस की स्थिति पैदा हुई और इस मामले की जांच के बाद जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी। हालांकि, उन्होंने पत्र दिखाते हुए यह भी कहा कि वह रेल मंत्री या मंत्रालय को जिम्मेदार नहीं ठहरा रहे हैं, लेकिन इसमें लापरवाही जरूर दिख रही है।

 

अशोक चव्हाण ने रेलवे अधिकारी का पत्र दिखाया

अशोक चव्हाण ने वीडियो लिंक के माध्यम से संवाददाताओं से कहा, '13 अप्रैल को दक्षिण मध्य रेलवे के एक अधिकारी के हस्ताक्षर से पत्र जारी किया गया कि 14 अप्रैल से प्रवासी मजदूरों के लिए ट्रेन चलेगी। यह रेलवे की लापरवाही का ज्वलंत उदाहरण है।'उन्होंने सोशल मीडिया के जरिये अफवाहें फैलाये जाने का जिक्र किया और कहा कि सामाजिक सौहार्द खराब करने और कोरोना के खिलाफ लड़ाई को बाधित करने के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी। उनके मुताबिक राज्य सरकार की भूमिका स्पष्ट है। इस मामले की विस्तृत जांच और कार्रवाई होगी।

 

राष्ट्रपति शासन की सोशल मीडिया पर चर्चा

चव्हाण ने सवाल किया, 'सोशल मीडिया में चर्चा की जा रही है कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगेगा। इसके पीछे कौन है?' महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं राज्य के राजस्व मंत्री बालासाहब थोराट ने कहा कि स्टेशन पर जो भीड़ जमा हुई थी उसमें किसी एक समुदाय के लोग नहीं, बल्कि सभी समुदाय के लोग शामिल थे ।

 

जरूरतमंद लोगों की मदद पर ध्यान

कोरोना के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार के कदमों का उल्लेख करते हुए थोराट ने कहा, 'महाराष्ट्र में सरकार ने 10 मार्च से ही कदम उठाना शुरू कर दिया था। हम कोरोना के खिलाफ अलर्ट हो गए थे। लॉकडाउन के बाद लोगों को जरूरी सेवा मुहैया कराने का काम किया है। जरूरतमंद लोगों की मदद पर पूरा ध्यान दिया गया है।' उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना के करीब 2700 मरीज हैं, इनमें से ज्यादातर शहरी इलाकों में हैं। थोराट ने कहा, 'महाराष्ट्र में 10 जिले ऐसे हैं जहां कोरोना का एक भी मरीज नहीं है।'

 

क्या हुआ था बांद्रा रेलवे स्टेशन पर

कोरोना के चलते लॉकडाउन के बीच गुमराह किए जाने पर मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर मंगलवार को हजारों की तादाद में प्रवासी मजदूर अपने गृह राज्य जाने के लिए इकट्ठा हुए। इन लोगों को यहां से हटने के लिए कहा गया लेकिन घर जाने के लिए इनके अड़ने पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को तितर-बितर किया, जिसके बाद स्थिति को नियंत्रण में किया गया। इस भीड़ को उकसाने के आरोप में ही विनय को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close