छत्तीसगढ़रायपुर

जिनके रह गए हैं पेपर, उन बच्चों व पालकों की बढ़ी चिंता

रायपुर
कोरोना आपदा ने स्कूली बच्चों के परीक्षा सत्र का ही कबाड़ा कर दिया है। सीबीएसई पाठ्यक्रम के बच्चों व पालकों की चिंता आज फिर बढ़ गई है,अब 3 मई तक लाकडाउन रहेगा तो बचे पेपर्स के क्या होंगे इस लिहाज से वे फ्यूचर प्लानिंग भी नहीं कर पा रहे हैं। बारहवीं के तो अलग-अलग संकायों में लगभग सभी मुख्य पेपर बाकी है। अनुमान था कि 15 अप्रैल के बाद लॉकडाउन में थोड़ी छूट मिलने पर शायद परीक्षाएं कराई जा सकेंगी। लेकिन अब तो वह भी संभव नहीं दिख रहा है।

वहीं मालूम हो कि कई राज्यों में बोर्ड परीक्षाएं और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) द्वारा आयोजित परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। यदि सीबीएसई कुछ पेपरों पर जनरल मार्किंग करने का फैसला ले भी ले तो कैसे ले क्योंकि मुख्य पेपर तो आर्ट्स,कामर्स व बायो सभी के बाकी है। स्थानीय स्कूल प्रबंधन भी बता पाने की स्थिति में नहीं है क्योकि जो भी होगा नेशनल पैटर्न पर ही तय होगा।

इधर छत्तीसगढ में बोर्ड परीक्षाओं को छोड़कर शेष में जनरल प्रमोशन देने का फैसला लिया गया है,लेकिन बोर्ड के कुछ पेपर रह गए हैं उन पर एक बार फिर से असमंजस की स्थिति बन गई है क्योकि लाकडाउन का दूसरे दौर की अंतिम तारीख 3 मई है। यदि परीक्षा हुए भी तो मई के दूसरे सप्ताह में संभव हैं। हालांकि पहले उन्होने 4 से 8 मई के बीच बचे पेपर लेने की बात कही थी। देखा जाए तो पूरे शैक्षणिक सत्र का शेड्यूल ही गड़बड़ा गया है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close