छत्तीसगढ़रायपुर

मां का फर्ज भी अदा कर रही हैं नर्स, COVID-19 पॉजिटिव महिलाओं की बच्चियों को पिला रहीं दूध

रायपुर
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरबा (Korba) जिले का कटघोरा इन दिनों कोरोना का हॉटस्पॉट (Hotspot) बना हुआ है. यहां से बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मरीज निकल कर सामने आ रहे हैं. यहां का एक पूरा परिवार कोरोना (Coronavirus) की चपेट में है. एक के बाद एक पांच लोग कोरोना (COVID-19) पॉजिटिव पाए गए हैं, इनमें दो महिलाएं भी पॉजिटिव पाई गई हैं. इन महिलाओं की छोटी बच्चियां हैं. कोरोना पीड़ित होने की वजह से बच्चियों की मां उन्हें चाहकर भी अपना दूध नहीं पिला पा रही हैं. जबकि पूरे परिवार के संक्रमित होने के कारण बच्चों की देखरेख के लिए कोई भी मौजूद नहीं है. ऐसे में बच्चियों की देखभाल के लिए अस्पताल प्रबंधन सामने आया है और एम्स अस्पताल की नर्स दुधमुंही बच्चियों के लिए मां का फर्ज अदा कर रही हैं. अस्पताल से एक तस्वीर सामने आई है जिसमें नर्सेस बच्चों को दूध पिला रही हैं.

बच्चों को दूध पिलाती नर्स की इस मार्मिक तस्‍वीर को देख लोगों का दिल पिघल गया. कटघोरा निवासी कोरोना पॉजिटिव पाई गई दोनों महिलाओं की दो छोटी बच्चियां हैं जिसमें से एक 22 महीने की और दूसरी तीन महीने की है. जब महिला को रायपुर एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया तब महिला अपने दोनों बच्चियों को भी साथ लेकर आई थी. स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दोनों बच्चियों का भी कोरोना टेस्ट करवाया. इन बच्चियों की पहली टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव आई है.

मां के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद बच्चियों के देखभाल के लिए प्रबंधन ने उनके मामा को बुलवाया. लेकिन जैसे ही वो रायपुर के लिए निकले उन्हें रास्ते में ही पता चला कि उनका भी सैंपल पॉजिटिव आया है. उसके बाद बच्ची की नानी को देख-रेख के लिए बुलवाया गया, लेकिन नानी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई. इस तरह एक ही परिवार के पांच सदस्य कोरोना पॉजिटिव निकले.

अब बच्चियों के ख्याल रखने वाला परिवार में कोई नहीं था. एम्स के अधीक्षक डॉ. करण पीपरे ने बताया कि बच्चियों की रिपोर्ट नेगेटिव है. वहीं परिवार सदस्यों की हालत फिलहाल स्थिर है. ऐसे समय में एम्स की नर्स ही बच्चियों  की देखभाल कर रही हैं.

बताया जा रहा है कि बच्चियों के पिता दूसरे राज्य में काम करने गए थे और लॉकडाउन के कारण वो वहीं फंसे हुए हैं, जिन्हें प्रबंधन ने बुलवाया है. ऐसे समय में एम्स प्रबंधन संकट की घड़ी में मानवता का परिचय देते हुए दोनों बच्चियों की देखरेख के लिए आगे आया और अस्पताल की नर्स दोनों बच्चियों को नर्सेज पीपीई सूट में दूध पिला रही हैं.

Related Articles

Back to top button
Close
Close