उत्तर प्रदेशराज्य

लखनऊ में कोरोना वायरस से हुई पहली मौत, 64 वर्षीय शख्स की गई जान

 
लखनऊ 

कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी मौत का पहला मामला सामने आया है. 64 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव शख्स की इलाज के दौरान मौत हो गई. शख्स लखनऊ के केजीएमयू में भर्ती था. कोरोना संक्रमित होने के बाद उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था, वहीं तबीयत ज्यादा खराब होने की वजह से मरीज की मौत हुई है.
केजीएमयू प्रशासन का कहना है कि मृतक पहले से मधुमेह का रोगी था और फेफड़ों में भी संक्रमण था. शख्स को वेंटिलेटर पर रखा गया था. बुधवार को संक्रमित बुजुर्ग की मौत हो गई. यूपी में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

कोरोना वायरस तेजी से लॉकडाउन के बाद भी पांव पसार रहा है. यूपी में कुल 44 जनपदों से कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं. जिनमें कुल संक्रमित 727 मरीज हैं. स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि यूपी में कोरोना से हर मौत की ऑडिट होगी, इलाज में और क्या किया जा सकता है, इस पर भी विचार किया जाएगा.
 
यूपी में 10,661 लोग क्वारंटाइन में
यूपी सरकार के मुताबिक 10,661 लोगों को क्वारंटाइन में रखा गया है. 2,000 से ज्यादा सैंपल टेस्ट किए जा रहे हैं. यूपी में कोरोना वायरस के चलते अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है.

यूपी में कोरोना से बचने की दी जाएगी ट्रेनिंग
उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि यूपी में ज्यादातर मामले जो सामने आए हैं, उनमें से 0 से 20 वर्ष के 17 फीसदी केस हैं. 20 वर्ष से 40 वर्ष की उम्र के 46.5 फीसदी केस और 41 से 60 आयुवर्ग के लोगों के 26 फीसदी केस सामने आए हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें
राज्य सरकार की सलाह है कि लोग बुजुर्गों का विशेष ख्याल रखें, शारीरिक क्षमता बढ़ाने पर ध्यान दें. लोगों को छींकते और खांसते वक्त मास्क लगाने की सलाह दी गई है. अगर मास्क उपलब्ध न हो तो खांसते वक्त कोहनी से मुंह जरूर छिपा लें. स्वास्थ्य विभाग 35 जनपदों को ट्रेनिंग कराने की तैयारी कर रहा है. 14 अप्रैल को 40 जनपदों में ट्रेनिंग कराई गई थी.

ज्यादा कोरोना टेस्ट की हो रही तैयारी
प्रशासन के मुताबिक जो मृत्यु हो रही है, उनकी ऑडिट हो रही है. राज्य सरकार ने ऑडिट सेल बना दिया है. केजीएमयू में पांच-पांच लोगों के एक साथ कोरोना टेस्ट कराने के लिए उपाय किया जा रहा है. 15 जनपदों में 105 हॉटस्पॉट हैं उनमें, 10 लाख लोगों को चिन्हित किया जा चुका है. इनमें 500 करोना केस सामने आए हैं. द्वितीय चरण में 29 जनपदों के अंतर्गत 119 कोरोना के मामले सामने आए हैं. प्रदेश में तबलीगी जमात से जुड़े हुए 58 फीसदी केस हैं.

कोरोना वायरस के उपाचर के लिए अब तक किसी प्रभावी वैक्सीन की खोज नहीं हो पाई है. केंद्र सरकार ने सुरक्षा के मद्देजनर 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है. लगातार बढ़ रहे मामले राज्य और केंद्र सरकार की चिंता बढ़ा रहे हैं.

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close