मध्य प्रदेशराज्य

आपदा में ड्यूटी से कतराने वाले डॉक्टरों पर MP सरकार सख्त, एस्मा के तहत होगी कार्रवाई

भोपाल
कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के मामले में हॉटस्पॉट (Hotspot) बने इंदौर में अब स्वास्थ्य अमले को बढ़ाने को लेकर सरकार की चिंता बढ़ गई है. दरअसल प्रदेश सरकार ने इंदौर में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासनिक अफसरों की टीम से लेकर स्वास्थ्य अमले को तैनात करने का एक्शन प्लान तैयार किया था. इसके तहत 11 अप्रैल को सरकार ने आदेश जारी कर मेडिकल कॉलेज के पीजी कंप्लीट करने वाले स्टूडेंट्स को वहां तैनात करने का फैसला दिया था. विभाग ने 70 डॉक्टरों की ड्यूटी इंदौर में लगाई थी और सभी डॉक्टरों को कहा गया था कि वह इंदौर में मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय में अपनी ज्वानिंग देकर कोरोनावायरस को रोकने में अपना सहयोग दें. लेकिन 11 अप्रैल के आदेश के बाद अब तक मात्र एक डॉक्टर इंदौर में अपनी जॉइनिंग दी है, बाकी 69 डॉक्टर इंदौर जाने से बच रहे हैं.

कोरोना संक्रमण के मामले में प्रदेश के टॉप शहर इंदौर में डॉक्टरों के नहीं जाने को अब विभाग ने गंभीरता से लिया है. स्वास्थ्य विभाग ने एक आदेश जारी कर अब उन सभी 69 डॉक्टरों को चेतावनी दी है कि अगले 48 घंटे में वह पहुंचकर अपनी जॉइनिंग दे वरना उनके खिलाफ एस्मा के तहत कार्रवाई की जाएगी. साथ ही विभाग ने उन मेडिकल कॉलेजों को भी जानकारी देने को कहा है जहां पीजी कंप्लीट कर चुके डॉ रेसिडेंट डॉक्टर के तौर पर काम कर रहे हैं. विभाग की कोशिश है कि ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य अमले को इंदौर में तैनात कर कोरोना को रोका जाए. लेकिन डॉक्टरों का यह रवैया सरकार के लिए अब चिंता का विषय बन गया है.

ऐसे में सरकार अब सरकारी निर्देशों का पालन नहीं करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ सख्ती के मूड में आ गया है और अगले 48 घंटे में ज्वाइनिंग नहीं देने वाले डॉक्टरों के खिलाफ सरकार एक्शन लेने को तैयार दिख रही है. दरअसल, जिन डॉक्टरों की ड्यूटी इंदौर में लगाई गई थी, वह प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों के पीजी कंप्लीट करने वाले स्टूडेंट हैं और जिनके साथ सरकार ने ग्रामीण इलाकों में सेवा देने का बांड भरवाया था उनकी ड्यूटी इंदौर में लगाई गई थी. लेकिन डॉक्टरों के भरोसे को रोना संक्रमण को रोकने की जिम्मेदारी है वहीं इससे बचने में लगे हुए हैं. बहरहाल सरकार अब ऐसे डॉक्टरों के खिलाफ एक्शन के मूड में नजर आ रही है. और इंतजार अब 17 अप्रैल तक का किया जा रहा है तब तक ड्यूटी नहीं देने वाले डॉक्टरों के खिलाफ सरकार एक्शन लेगी.

सरकार ने कोरोनावायरस संक्रमण फैलने के कारण पूरे प्रदेश में एस्मा लागू किया है. इसके तहत जरूरी सेवाएं देने से कोई इनकार नहीं कर सकता है और ऐसे में यदि यह डॉक्टर अपनी ज्वाइनिंग नहीं देते हैं तो सरकार इनके रजिस्ट्रेशन को निरस्त करने का भी फैसला ले सकती है.

Related Articles

Back to top button
Close
Close