देश

कोरोना संकट: अब UAE ने मांगी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की मदद, भारत कर रहा विचार

 
नई दिल्ली 

 दुनिया इस वक्त कोरोना वायरस महामारी के संकट से जूझ रही है. बड़ी से बड़ी महाशक्ति ने इस वायरस के आगे घुटने टेक दिए हैं. इस महासंकट के बीच भारत दुनिया में एक ऐसा देश बनकर उभरा है, जो हर किसी की मदद कर रहा है. यूनाइटेड अरब अमीरात (UAE) ने अब भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के लिए मदद मांगी है, जिसपर भारत ने उसे हर संभव सहायता का आश्वासन दिया है.

मलेरिया के खिलाफ काम आने वाली ये दवाई कोरोना वायरस से जंग में भी कारगर साबित होती दिख रही है. UAE में भारत के एंबेसडर पवन कपूर ने इंडिया टुडे को बताया कि UAE की कुछ कंपनियों ने भारत के सामने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की रिक्वेस्ट की है, उन्होंने हमसे इस बात का जिक्र किया, जिसके बाद संदेश को दिल्ली तक पहुंचाया गया है.
 
पवन कपूर के मुताबिक, भारत सरकार इसपर जल्द ही फैसला कर रही है, ऐसे में UAE को जल्द ही इस दवाई की पहली किस्त मिल सकती है. गौरतलब है कि भारत ने बीते दिनों हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाई की सप्लाई पर लगी रोक हटाई थी और उन देशों को देने का वादा किया था, जहां हालात सबसे अधिक खराब हैं.

हालांकि, अभी UAE में उस प्रकार की स्थिति नहीं है लेकिन फिर भी संबंधों को देखते हुए भारत इसपर फैसला ले सकता है. अभी तक भारत ने अमेरिका, जर्मनी, इज़रायल, ब्राजील, नेपाल समेत 13 देशों को ये दवाई दी है. बीते दिने ही मॉरिशस को भी भारत की ओर से भेजी गई इस दवाई की पहली खेप मिली है.
 
UAE में फंसे भारतीयों का क्या?
कोरोना वायरस महामारी के कारण कई देशों में लॉकडाउन की स्थिति है और कामकाज ठप पड़ा है. ऐसे में UAE में भी कई ऐसे भारतीय हैं जो अपने घर वापस आना चाहते हैं. इस मसले पर पवन कपूर ने कहा कि यहां पर करीब 34 लाख भारतीय लोग रहते हैं, लेकिन इनमें से काफी कम ही हैं जो घर वापस जाना चाहते हैं.

उन्होंने कहा कि यहां रह रहे सभी लोगों को मेडिकल सहायता दी जा रही है, लेकिन तुरंत किसी को वापस भेजना संभव नहीं है. क्योंकि भारत में भी मेडिकल इमरजेंसी जैसे हालात हैं और फ्लाइट सेवा पूरी तरह से बंद है. लेकिन जैसे ही कुछ सुगम परिस्थिति बनेगी तो जो लोग वापस जाना चाहते हैं, उनके लिए प्रबंध किया जाएगा.

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close