छत्तीसगढ़रायपुर

बिजली रीडिंग-बिलिंग 21 अप्रैल तक बंद

रायपुर
लाकडाउन-2 के  व कोरोना प्रकोप के चलते राज्य पॉवर कंपनी ने  मीटर रीडिंग, स्पॉट बिलिंग और सभी आॅफलाइन बिजली बिल नगद संग्रहण केंद्रों को अब 21 अप्रैल तक बंद रखने का फैसला लिया गया है।

यह जानकारी पॉवर कंपनी के अतिरिक्त महाप्रबंधक जनसंपर्क विजय मिश्रा ने दी। आगे उन्होंने कहा कि दरअसल मीटर रीडर के विभिन्न परिसर आवासों में आने जाने से, बिजली बिल  वितरण कार्य से तथा नगद संग्रहण केंद्रों में  आपसी संपर्क से  संक्रमण फैलने का बड़ा खतरा हो सकता है।

मिश्रा ने बताया वर्तमान में निम्न दाब उपभोक्ताओं की मीटर रीडिंग नहीं हो पाने के कारण  औसत खपत के आधार पर बनाए गए बिल एस एम एस के माध्यम से भेजे जा रहे हैं । बिल औसत खपत के आधार पर बनाए गए हैं तथा  इसमें  शासन की हाफ रेट पर बिजली भुगतान योजना से घरेलू उपभोक्ताओं को मिलने वाली छूट  भी तकनीकी कारणों से  दर्ज  नहीं हो सकी है , स्वाभाविक रूप से बिजली बिल की राशि कम अथवा अधिक होने के संभावना है।  इससे उपभोक्ताओं को किसी भी प्रकार की आर्थिक हानि ना हो इसके लिए कम्पनी द्वारा अगले माह घरेलू उपभोक्ताओं को एक साथ दो माह की छूट अर्थात प्रत्येक माह की चार चार सौ यूनिट को मिलाकर पूरे 8 सौ यूनिट पर इस योजना का लाभ देने का निर्णय लिया गया है।

इसके अलावा एक बड़ा फैसला उपभोक्ताओं के हित में यह भी लिया गया है कि 30 अप्रैल तक बिजली बिल पटाने पर उपभोक्ताओं पर कोई सरचार्ज नहीं लगेगा। आॅनलाइन बिजली बिल भुगतान करने पर ट्रांजेक्शन चार्ज एवं जीएसटी का वहन पावर कंपनी पूवार्नुसार करेगी। मिश्रा ने कहा कि संकट की घड़ी में भी उपभोक्ताओं के हित संरक्षण को पूर्व की भांति कंपनी ने ध्यान में रखा है। इस माह भुगतान की गई राशि यदि कम अथवा ज्यादा होती है या निम्नदाब उपभोक्ता किश्त में राशि जमा करते हैं तो अगले माह वास्तविक खपत के आधार पर बने बिजली बिल में उसका समायोजन एडजस्ट किया जाएगा।

मिश्रा ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा की इस घड़ी मे उपभोक्ताओं को निर्बाध रूप से बिजली मिल सके इसके लिए बिजली अमला 24 घंटे विद्युत गृहों, उप केंद्रों, कॉल सेंटर शिकायत केंद्र में सेवारत  है। सेंटर काल सेंटर के नम्बर1912भी उपभोक्ताओं की सेवा में दिन-रात हर दिन चालू है। कंपनी प्रबंधन की ओर से उपभोक्ताओं से अपील की गई है कि एकजुटता के साथ  तालमेल को बनाए हुए  प्रदेश को कोरोना संकट से मुक्त करें।

Related Articles

Back to top button
Close
Close