छत्तीसगढ़रायपुर

राज्य महिला आयोग में नवनियुक्त सदस्यों के आने से प्रकरणों के निराकरण में आएगी तेजी – डॉ. नायक

Spread the love

रायपुर
छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग में नियुक्त किए गए 5 सदस्यों में से 3 सदस्यों श्रीमती नीता विश्वकर्मा (सरगुजा), सुश्री शशिकांता राठौर (जांजगीर-चांपा), श्रीमती अर्चना उपाध्याय (कोरबा) ने आयोग के कार्यालय में उपस्थित होकर अपनी सदस्यता ग्रहण की। इस अवसर पर अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक द्वारा अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए तीनों सदस्यों को आयोग कार्यालय के सदस्य के पद का कार्यभार सौंपा।

इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि महिला आयोग में बहुत ही सशक्त महिलाओं को सदस्य की जिम्मेदारी दी गयी है। आज के दिन आयोग में हमारी तीन नवनियुक्त सदस्यों ने अपना पदभार ग्रहण किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि हम सभी मुख्यमंत्र के सपने के अनुरूप इस पूरे छत्तीसगढ़ में महिलाओं को न्याय देने, सशक्त करने तथा जागरूकता बढ़ाने की दिशा में मिलकर एक टीम की तरह कार्य करेंगे।

इस अवसर पर नवनियुक्त सदस्य श्रीमती शशिकांता राठौर ने सरकार के शीर्ष नेतृत्व का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक के समक्ष पदभार ग्रहण की हूँ। महिला आयोग, महिलाओं के संवैधानिक अधिकारों के लिए बना हुआ है। पीड़ित महिलाओं को उनके अधिकारों के लिए हम  अध्यक्ष के दिशा निर्देश के अनुरूप सतत् कार्यरत रहेंगे।श्रीमती नीता विश्वकर्मा ने इस अवसर पर सरकार द्वारा महिला आयोग की सदस्य नियुक्त करने पर धन्यवाद ज्ञापित किया।आज महिला आयोग के सदस्य के रूप में अध्यक्ष के समक्ष पदभार ग्रहण की हूँ, मैं अध्यक्ष के साथ मिलकर, उनका सहयोग कर मैं राज्य की महिलाओं के हित में न्याय दिलाने में निरंतर प्रयासरत रहूँगी।  श्रीमती अर्चना उपाध्याय ने कहा कि सरकार ने मुझे इस दायित्व के लिए  योग्य माना है और उस महिला आयोग का सदस्य बनाया जिसके अध्यक्ष का डंका न केवल छत्तीसगढ़ में बल्कि लगभग पूरे प्रदेश में बज रहा है। आयोग के अध्यक्ष से जो भी दिशा निर्देश मिलेगा, उसे मैं हरसंभव सफल करने में प्रयासरत रहूँगी, पूरे प्रदेश की महिलाओं के उत्थान हेतु हम सब मिलकर कार्य करेंगे। कार्यभार ग्रहण कार्यक्रम के अवसर पर नवनियुक्त सदस्यों के क्षेत्रों के जनप्रतिनिधिगण और महिला आयोग की सचिव श्रीमती अनिता अग्रवाल सहित अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
Close
Close