देश

लॉकडाउन 2: कृषि-इंडस्ट्री और यातायात, मोदी के संबोधन से लगी हैं ये उम्मीदें!

 
नई दिल्ली 

कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश में इस वक्त एक जंग चल रही है. इसी को लेकर देश में 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया था, जिसकी मियाद आज खत्म हो रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लॉकडाउन के अगले फेज़ को लेकर कई बातें स्पष्ट कर देंगे, लेकिन पिछले दिनों लॉकडाउन से सबकुछ ठप हो जाने का असर अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा है. ऐसे में कई सेक्टर और लोगों को उम्मीद है कि इस बार कुछ रियायत मिल सकती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से खास तौर पर कारोबार, कृषि जैसे सेक्टर के लोग उम्मीद लगाए बैठे हैं. बैसाखी का त्योहार देश ने मना लिया है, जिसके बाद फसल काटने का मुख्य मौसम शुरू होता है. लेकिन लॉकडाउन की वजह से अभी मजदूर कहीं ना कहीं अटके हुए हैं, अधिक संख्या में खेतों में जाने पर भी पाबंदी है.
 
ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संबोधन में किसानों और मजदूरों को लेकर कुछ राहत दे सकते हैं. जिससे की फसल की बर्बादी और किसानों को कोई बड़ा नुकसान ना हो. ऐसा ही कुछ इंडस्ट्री के साथ भी हो सकता है, जहां प्रधानमंत्री कुछ नियम एवं शर्तों के साथ मैन्युफेक्चर का कामकाज शुरू करने की बात कर सकते हैं.
 

• स्वचालित सेक्टरों को कुछ छूट देने की अपील

• जिन उद्योगों का निर्यात का काम है, उन्हें छूट संभव

• मेडिकल इंडस्ट्री से जुड़े उद्योगों को राहत

• जरूरत के सामान की मैन्युफैक्चरिंग कंपनी

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

• किसानों के लिए खाद-बीज तैयार करने वाली कंपनियां

• डिफेंस सेक्टर को कुछ राहत

• खाने-पीने के क्षेत्र से जुड़ी कंपनियां

• रेल-बस सर्विस को कुछ हद तक शुरू करने पर विचार
 
हालांकि, इन सभी राहतों में सरकार की ओर से कुछ दिशा-निर्देश जारी किए जा सकते हैं. जिनमें कंपनी में कम से कम कर्मचारियों का उपस्थित होना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना, सैनिटाइज़ेशन का ध्यान रखना आदि.

 

Related Articles

Back to top button