छत्तीसगढ़रायपुर

चारधाम यात्रा अधर में, छग के भक्तों का भी फंसा पैसा

रायपुर
चारधाम की यात्रा अप्रैल अंत से शुरू होती है,हजारों की संख्या में छत्तीसगढ़ से जाने वाले भक्त या तो रायपुर से ही या हरिद्वार से पैकेज बनाकर बुकिंग करा चुके हैं। कोरोना आपदा के बीच वे पहले दौर का लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार कर रहे थे। टूर टे्रवल्स वालों से सतत संपर्क में भी थे लेकिन आज जैसे ही 3 मई तक आगे बढ़ाये जाने की घोषणा हुई तो वे अपनी यात्रा स्थगित कर पैसा वापसी के बंदोबस्त में लग गए हैं। हालांकि बताया जा रहा है कि केदारनाथ व बद्रीनाथ के पट तो समय पर शुभ मुहूर्त में ही खुलेंगे।

हरिद्वार के निजी टे्रवल्स वालों का कहना है कि चार धाम की यात्रा को लेकर अब कोई भी फैसला केंद्र सरकार के निदेर्शों को ध्यान में रखकर ही लिया जाएगा. कोरोना संक्रमण के चलते राज्य और जिलों की सभी सीमाएं भी बंद हैं.शेड्यूल के अनुसार 26-27 अप्रैल से गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने जा रहे हैं. जबकि 29-30 अप्रैल को केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलेंगे. हर साल हजारों लाखों की संख्या में चार धाम की यात्रा के लिए देश और विदेश से श्रद्धालुओं का जत्था यहां दर्शन के लिए पहुंचते हैं लेकिन इस बार यात्रा पर कोरोना का ग्रहण लग गया है और भक्त भी काफी निराश हैं। सीजनल धंधा होता है और अब वह पूरी तरह चौपट होने की कगार पर पहुंच चुका है। एडवांस का पैसा तो उन्हे लौटाना ही पडेगा।

Related Articles

Back to top button